Friday, November 6, 2009

उड़ गया....कागद कारे करने वाला हँस अकेला !


आज सुबह आकाशवाणी समाचार में वरिष्ठ हिन्दी पत्रकार श्री प्रभाष जोशी के अवसान का समाचार सुना. यूँ लगा जैसे मालवा का एक लोकगीत ख़ामोश हो गया. उनके लेखन में मालवा रह-रह कर और लिपट-लिपट कर महकता था. नईदुनिया से अपनी पत्रकारिता की शुरूआत करने वाले प्रभाषजी के मुरीदों से बड़ी संख्या उनसे असहमत होने वालों की है. लेकिन वे असहमत स्वर भी महसूस करते रहे हैं कि पत्रकारिता में जिस तरह के लेखकीय पुरूषार्थ की ज़रूरत होती है; प्रभाषजी उसके अंतिम प्रतिनिधि कहे जाएंगे. आज पत्रकारिता में क़ामयाब होने के लिये जिस तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं ; प्रभाषजी उससे कोसों दूर अपने कमिटमेंट्स पर बने रहे. दिल्ली जाकर भी वे कभी भी मालवा से दूर नहीं हुए. बल्कि मैं तो यहाँ तक कहना चाहूँगा कि श्याम परमार, कुमार गंधर्व,प्रभाष जोशी और प्रहलादसिंह टिपानिया के बाद मालवा से मिली थाती को प्रभाषजी के अलावा किसी ने ईमानदारी से नहीं निभाया; यहाँ तक कि अब मालवा में रह कर पत्रकारिता,कला,कविता और संगीत से कमा कर खाने वालों ने भी नहीं. जनसत्ता उनके सम्पादकीय कार्यकाल और उसके बाद के समय में जिस प्रतिबध्द शैली में काम करता रहा है उसके पीछे कहीं न कहीं प्रभाषजी का पत्रकारीय संस्कार अवश्य क़ायम है. राहुल बारपुते जैसे समर्थ पत्रकार के सान्निध्य में प्रभाषजी ने अख़बारनवीसी की जो तालीम हासिल की उसे ज़िन्दगी भर निभाया. आज पत्रकारिता क्राइम,ग्लैमर और राजनीति के इर्द-गिर्द फ़ल-फूल रही है,कितने ऐसे पत्रकार हैं जो कुमार गंधर्व के निरगुणी पदों का मर्म जानते हैं,कितने केप्टन मुश्ताक अली या कर्नल सी.के.नायडू की धुंआधार बल्लेबाज़ी की बारीकियों को समझते हैं,कितने ऐसे हैं जो अपने परिवेश की गंध को अपने लेखन में बरक़रार रख पाते हैं; शायद एक-दो भी नहीं.राजनेताओं से निकटता आज पत्रकारिता में गर्व और उपलब्धि की बात मानी जाती है. प्रभाषजी जैसे पत्रकारों ने इसे हमेशा हेय समझा बल्कि मुझे तो लगता है कि कई राजनेता उनसे सामीप्य पाने के लिये लालायित रहे लेकिन जिसे उन्होंने ग़लत समझा ; ग़लत कहा...किसी व्यक्ति से तमाम विरोधों के बावजूद यदि प्रभाषजी को लगा कि नहीं उस व्यक्ति में कमज़ोरियों की बाद भी कुछ ख़ास बात है तो उसे ज़रूर स्वीकारा.अभी हाल ही में उन्होंने इंदिराजी की पुण्यतिथि पर दूरदर्शन के एक टॉक-शो में शिरक़त की थी और इंदिराजी की दृढ़ता और नेतृत्व -क्षमता की प्रशंसा की थी जबकि उन्हीं इंदिराजी को आपातकाल और उसके बाद कई बार प्रभाषजी ने अपने कागद-कारे में लताड़ भी लगाई थी.
बहरहाल...हिन्दी पत्रकारिता ही नहीं हिन्दी जगत में भी आज का दिन एक दु:ख भरे दिन के रूप में याद किया जाएगा क्योंकि हिन्दी की धजा को ऊंचा करने वाले प्रभाष जोशी आज हमारे बीच नहीं रहे हैं.....प्रभाष दादा क्या आप आज भी कुमार जी का यह पद सुन रहे हैं....उड़ जाएगा हँस अकेला.

10 comments:

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

समाचार ने स्तब्ध कर दिया। हिन्दी पत्रकारिता का वे एक युग थे। उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि!

सुलभ सतरंगी said...

पत्रकारिता के एक सच्चे प्रहरी को मेरा सलाम!

ललित शर्मा said...

उड़ गया हंस अकेला! कागद कारे करने वाला को मेरी विनम्र श्रद्धाजंलि।

Priyankar said...

प्रभाष जी के साथ हिंदी पत्रकारिता का एक ठसकदार युग समाप्त हो गया . अब राजनीतिज्ञों और अंग्रेज़ी पत्रकारिता के दबाव में सोने-जागने वालों का युग है .
हिंदुस्तानी पत्रकारिता के इस पुरोधा को विनम्र श्रद्धांजलि .

डॉ .अनुराग said...

अजीब बात है के क्रिकेट के दीवाने ने उस दिन क्रीज छोडी जिस दिन एक इतिहासिक मेच हुआ ...वे कभी अखबारों के सम्पादकीय पन्ने पर नहीं सिमटे रहे न ही संपादक की पाठको के लिए हमेशा गहन गंभीर वाली छवि वाली इमेज में बंधे .एक समय में जनसत्ता अपने शीर्ष पर था ...ओर उसका एक मुख्य कारण वे भी थे

ज्ञानदत्त पाण्डेय| Gyandutt Pandey said...

प्रभाष जोशी मेरे आदर्श हुआ करते थे। जयप्रकाश नारायण भी आदर्श हुआ करते थे। न मैं पत्रकार हूं, न राजनीति से जुड़ा और न समाज सेवी।

कालान्तर में ये आदर्श अप्रासंगिक हो गये। पर अपने आप में भी बहुत कुछ अप्रासंगिक हो गया।

पर जैसे अपने आप से और अपने अतीत से मोह है, और गर्व भी, वैसे प्रभाष जी से भी है।

आज काफी उदास महसूस करता हूं।

लगता है कि पीठ का दर्द कुछ बढ़ गया है इस उदासी से।

ravindra vyas said...

shraddhanjali!

अविनाश वाचस्पति said...

प्रभाष जोशी जी का जाना

जाना नहीं उनके विचारों

का जमाना आने वाला है।

विनम्र श्रद्धांजलि।

दिलीप कवठेकर said...

मालवा के इस लोकगीत के हमेशा के लिये खामोश होने पर विनम्र श्रद्धांजली.

महावीर said...

विनम्र श्रद्धांजलि.