Thursday, July 26, 2007

की-बोर्ड से हुक़्म बजा लाने वाला अलादीन !


बेटे कहना मानते नहीं ...कर्मचारियों के पास हैं सौ बहाने.
आज ही मेरे एक मित्र ने एक ऐसी ई-मेल प्रेषित की कि मै देख कर हैरान रह गया!
लिंक नीचे दे रहा हूं..यहाँ से आप इसे अपने ब्राउज़र पर चिपका लें और देखें एक अफ़लातून नज़ारा..आपके कहने पर
क्या कोई इतना समर्पित हो सकता है?
एक मज़ेदार लिंक है ये...बच्चों ...बूढों सभी को मज़ा देगी.
वक़्त काटने के लिये एकप्यारा खिलौना है ये...
मन में जो आए कहिये उससे..जो उस विज़्युअल में मौजूद है
जहाँ तक मुमकिन होगा वह आपका हुक़्म बजा लाएगा.
समझिये अलादीन का चिराग़ है वह..
जैसे ही वह कंप्यूटर पर काम करता नज़र आए...नीचे दिये हुए बाँक्स में आदेश दे डालिये.
अंग्रेज़ी में लिखना होगा अपना हुक़्म...
स्टैंण्ड अप....राईट आँन दि व्हाइट बोर्ड,ईट फ़्रूट या काँल योर माँम...
या और कुछ ..( ये सब तो मैने कहा था और हुआ )
बस दिक़्कत यही है कि भाई अंग्रेज़ी ही समझता है...
उम्मीद है एक दिन हमारी ब्लाँग बिरादरी के निष्णांत कलाकार बंदे को
हिन्दी में भी हुक़्म बजा लाना सिखा ही देंगे.
आमीन.
http://www.subservientprogrammer.com/main.aspx

4 comments:

उन्मुक्त said...

क्या बतायें यह तो केवल इंटरनेट एक्सप्लोरर पर चलता है यह मेरे पास है नहीं :-(

रंजू said...

अच्छा है जी:):)

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया :) :)

Englishtohinditranslator said...

Aadarniya Sanjay Bhaisahib,
Heartiest congratulations for this great job.
I've seen several hindi websites, online hindi magazines/journals as well as hindi blogs, but the quality of work, this blog bears is unparalled, unmatched and unrivalled.
The way in which you are frequently updating it is astonishing. How you find this much time among your several activities.
It is really very pleasant and a marvellous one.
Once again, you have proved that your's is a unique way for expressing our cultural and artistic varieties.
The high morals, values and dignity reflecting in this blog are tremendous.
In short, word may not do justice with my feelings in appraising this gem from your treasure.
again with best wishes for coming Independence Day.
with regards
aapka chhota bhai
umesh