Tuesday, May 6, 2008

पं.किशन महाराज के साथ ही चला गया बनारसी बाज का ठाठ


एकल वादन हो या संगति पंडित किशन महाराज जिस भूमिका में होते
तो वस वे ही वे होते.देश के शीर्षस्थ और गुणी कलाकारों के साथ उन्होंने
संगति की और बनारसी बाज को प्रतिष्ठित किया. जिस ज़माने में पंडितजी
परिदृष्य पर आए तब शास्त्रीय संगीत का लाजवाब माहौल था और देश में
एक से बेहतरीरन जल्से नुमाया होते थे. पं.अनोखेलाल,पं.चतुरलाल,पं.सामताप्रसाद
उस्ताद अल्लारखा और उस्ताद लतीफ़ अहमद के तबला वादन का जादू सर चढ़
कर बोलता था. दिल्ली,मुंबई,पुणे,लख़नऊ,बनारस,इलाहाबाद,जलंधर और इन्दौर की
अनेक संस्थाएँ सीमित साधनों के बावजूद संगीत सम्मेलनों का आयोजन करतीं थी.
इन्दौर के अभिनव कला समाज ने पचास के दशक में क्लासिकल मौसिक़ी
के कार्यक्रमों को आयोजित करने का सिलसिला शुरू कर दिया था और तब ही
पंडित किशन महाराज इन्दौर आते रहे.ये सिलसिला निर्बाध रूप से नब्बे के दशक
शुरूआत तक चलता रहा .

सन २००६ में उज्जैन जाते हुए पं.किशन महाराज अपने मुरीद और
छायाकार श्री हँसकुमार जैन और मेरे आग्रह पर इन्दौर पंद्रह मिनट के लिये
रूकने वाले थे लेकिन रूक गए दो घंटे के लिये. बातों का सिलसिला जब चला तो
पंडितजी ने बताया की सन १९४३ में वे मुंबई गए अपनी क़िस्मत आज़माने.पहलवानी
शरीर था उन दिनों और सुबह चार बजे उठ कर खूब रियाज़ करने का नियम बना
लिया था. पहलवानी क़द -काठी होने के कारण लोग मुझे बनारसी ग़ुंडा ही समझते थे.
जिस कमरे में रहते थे उसमें संगीतकार नौशाद उनके रूम-मेट थे वे भी मुम्बई
फ़िल्म इंडस्ट्री मे संघर्ष कर रहे थे .

पंडितजी ने बताया कि एक स्टुडियो से दूसरे स्टुडियो घूमते हुए दिन बीत जाता था.
एक दिन संगीतकार के.दत्ता ने किशन महाराज से इसरार किया कि एक डांस सिचुएशन
में मशहूर तारिका और नृत्यांगना सितारा देवी के साथ तबला संगति जम नहीं रही है
क्या आप बजा पाएंगे ? कंपोज़िशन सुना और चार दिन बाद फ़ायनल रेकार्डिंग का
वादा कर दिया. बजा तो उसी दिन सकता था लेकिन क्या है कि मुंबई में अपना माल फ़ट से परोस दो तो काम का मोल नहीं लगता न ! ख़ैर...जिस दिन रेकार्डिंग थी उस दिन पास खड़ी एक लड़की से कहा पानी पिला दोगी...वह झट से मटके में से पानी ले आई,बाद में संगीतकार दत्ता ने परिचय करवाया ये लता मंगेशकर हैं.बस इस मुलाक़ात के बादलताजी के साथ बहुत आत्मीयता बनी रही.इस काम के तक़रीबन दो हज़ार रूपये मिले जो उस ज़माने में काफ़ी होते थे. इससे अपनी खोली को पुतवाया,नया पलंग ख़रीदा.बाद की जिन फ़िल्मों में काम किया जिनमें नीचा नगर,आँधियाँ,लेख प्रमुख थीं

पं.रविशंकर के साथ पहली बार संगति का क़िस्सा भी बहुत रोचक है. पंडितजी ने बताया
कि किसी परिचित ने रवि बाबू के साथ बजाने का आग्रह किया. मैने कहा एक शर्त है;
रवि बाबू को बताइयेगा नहीं कि मेरा नाम क्या है. पं.रविशंकर की संगति में तिहाईयाँ
बड़ी क्लिष्ट हुआ करतीं थी.हर एक तिहाई का जवाब दिया. रवि बाबू ने शुरूआत में ही
पूछा था किससे सीखते हैं आप ...मैने जवाब दिया कंठे महाराज से.रवि बाबू बोले
आजकल किशन महाराज का नाम भी खूब चल रहा है...मैने कहा मैने उनसे भी सीखा है.तिहाइयाँ जब और कठिन होतीं गईं तो भी मैने हिम्मत नहीं छोड़ी और सितार की हर
बात का जवाब दिया....पं.रविशंकर समझ गए...और गले लगा कर बोले....तुम ही किशन
हो मेरे भाई.विदूषी गिरिजा देवी,नटराज गोपीकृष्ण,विदूषी सितारा देवी,उस्ताद विलायत ख़ाँ की एकल प्रस्तुतियों और पं.वी.जी.जोग-उस्ताद बिसमिल्ला ख़ाँ की जुगलबंदी में किशन महाराज के तबले की कारीगरी यादगार रही है.

अपनी बात को पूरा करते करते ये ज़रूर कहना चाहूँगा कि सन साठ से लेकर
अस्सी तक ; जब प्रचार -प्रसार के साधन न के बराबर थे और जब संगीत की
दुनिया में आज जैसा ग्लैमर भी नहीं था पं.किशन महाराज सेलिब्रिटी की हैसियत
रखते थे. पंडितजी के जाने के बाद भी तबला गूँजता रहेगा लेकिन उसमें वह
बनारसी ठाठ गुम होगा जो किशन महाराज के वादन में सुनाई देता था.पखावज
जैसी परन बजाने वाले बेजोड़ फ़नकार थे किशन महाराज.सोलो,गायन,वादन और नृत्य
सभी विधाओं में में पं.किशन महाराज का कला-कौशल अदभुत था.
अति-विलम्बित से अति-द्रुत तक का चलन पं.किशन महाराज ने ही प्रारंभ किया.
अप्रचलित तालों को अपने वादन में ख़ूबसूरती से प्रकट करने वाले पं.किशन महाराज
महान ताल-सम्राट थे. लयकारी का वैभव किशन महाराज जी के साथ ही चला गया है और ख़ामोश हो गया तिहाइयों का तिलिस्म.

8 comments:

vimal verma said...

पं. किशन महाराज को हमारी श्रदधांजलि...संजय भाई आपकी संगीत की बारीकियों पर इतनी अच्छी पकड़ है कि क्या बताएं...किशन महाराज के बारे में इतनी सारी जानकारी देकर आपने वाकई पुण्य का काम किया है...इतना गहरे आप भी संगीत को समझते हैं... ताल सम्राट पं. किशन महाराज को हमारी भाव भीनी श्रदधांजलि..उनसे जुड़े संस्मरण बहुत दिलचस्प लगे....आपका शुक्रिया जो उनके बारे में इतनी बेहतर जानकारी दी.

अजित वडनेरकर said...

हमारी भी श्रद्धांजलि। यकीनन सेलिब्रिटी तो वो अपने शुरूआती दौर में ही बन गए थे। बहुत अच्छा आलेख।

चंद्रभूषण said...

दस-बारह साल पहले दिल्ली के फिक्की ऑडिटोरियम में एक ही बार पंडित जी को सुनने का मौका मिला है, लेकिन अवसर अद्वितीय था। एक ही मंच से पंडित किशन महाराज का तबलावादन, सितारा देवी का नृत्य और गिरिजा देवी का गायन देखने का। श्रोतावर्ग में मौजूद एक चिढ़कौए विद्वान ने उस दिन पंडित जी का मूड मंच पर चढ़ने से पहले ही खराब कर दिया- चप्पल पहनकर मंच पर चढ़ने के लिए उन्हें टोककर! दो अन्य वरिष्ठ कथक नृत्यांगनाओं के साथ शुरू की संगतें कुछ जमीं नहीं। लेकिन जब सितारा देवी ने 'डिमिक-डिमिक डमरू कर बाजे, प्रेम मगन नाचे भोला' बंदिश पर रंग जमाना शुरू किया तो पंडित जी अपने पर आ गए और सुनने वाले ऐतिहासिक अनुभव लेकर लौटे।

Udan Tashtari said...

बहुत खूबसूरती से याद किया. हमारी श्रद्धांजलि.

Lavanyam - Antarman said...

सँजय भाई ,
इतनी सारी बारिकियाँ
तबला जैसे वाध्य की
और दीवँगत कीशन महाराज के फन के बारे मेँ बताकर
आपने , आज ,
उन्हेँ सच्ची श्रध्धाँजलि दी है -
उनकी आत्मा और कला,
अमर रहेगी !
- लावण्या

Ila's world, in and out said...

पण्डित किशन महाराज के जाने से बनारस क रस कम हो गया है.पहले आदरणीय बिस्मिल्लाह खान साहब के ना रहने से बनारस वो बनारस नहीं रहा और अब ये क्षति.दोनों ही दिग्गजों को बनारस में ही कई बार सुनने का मौका मिला.अब स्वर और थाप सिर्फ़ दिल में कैद हैं.
सन्जयजी आपका तहे दिल से शुक्रिया,किशन महाराज को श्रद्धांजली देने का.

shubha said...

संजय जी, आपको बहुत बहुत धन्यवाद जो आपने इस भाग दौड़ के ज़माने में, जहाँ कोई किसी को याद नहीं रखता, हमारे मूर्धन्य कलाकारों को भावभीनी श्रद्धांजली देने का मन बनाया, और इतनी आत्मीयता से दस्तूर साहब व महाराज जी के विषय में अपने भाव व्यक्त किये । पंडित किशन महाराज जी पर आपका लेख पढ़ कर तो मन किया कि आपसे अनुरोध करूँ कि आप कलाकारों के अपने संस्मरण अवश्य पुस्तक के रूप में प्रकाशित करने का विचार बनाइये ।

sanjay patel said...

धन्यवाद आप सभी का. दर असल आप सबकी प्रतिक्रियाएँ पण्डितजी की तिहाइयों के खाते में ही जमा कर रहा हूँ.शुभाजी (सुश्री शुभा मुदगल)का सुझाव सर माथे. शीघ्र ही इस दिशा में पहल करूंगा.