Wednesday, April 23, 2008

नये ज़माने के बच्चे से एक इंटरव्यू

बेटा आपका नाम ?

कहाँ का बताऊ ? घर का,स्कूल का,दोस्तो का या दादा-दादी वाला.

द्रोणाचार्य के बारे में क्या जानते हो
?

आप ही बताइये..कहीं सुना ज़रूर था.शायद इंडियन क्रिकेट टीम के कोच के रूप में गैरी कर्स्टन के पहले इनका नाम तो नहीं चला था ?

स्कूल रोज़ जाते हो ?

ऐसा कोई नियम तो नहीं है लेकिन दो-तीन दिन में दोस्तो की याद तो आने ही लगती है;ह्फ़्ते में दो बार तो चला ही जाता हूं

बेटे आपके पर-दादा का नाम ?

जो पर यानी पराया हो उसका नाम याद रखने की क्या ज़रूरत है सर.

नहीं मै तो इस लिहाज़ से पूछ रहा हूं कि आपको याद है या नहीं ?


सर ग्रैण्ड पा का नाम याद रखने में ही मुश्किल पडती है; आप ग्रेट-ग्रेण्ड पा की बात कर रहे हैं.

आपके घर के पडो़स में कौन रहता है ?

मै उनकी लड़की का नाम बता सकता हूं ; उस घर के मालिक का नाम तो बताना मुश्किल है सर.

मंदिर कब गये थे ?


सर दादी का इन्तेक़ाल हुआ था तीन बरस पहले तो वो काँलोनियों में घुमाते हुए ले जाते हैं न आजकल ; वो उठावने के बाद् मंदिर तब गया था.

और पिक्चर ?

सर कल ही रात का नाइट शो देखा..जब वी मैट का आप कहें तो एक बार फ़िर चलते हैं .

अपने दादाजी से कब मिले थे ?

सर वो तो अलग रहते हैं न गाँव में ! तो साल भर में बमुश्किल दो बार मिलना हो पाता है.वे ही आ जाते हैं हमसे मिलने..वरना पापा को कहाँ टाइम मिल पाता है उनसे मिलने जाने का.

तुम्हारे चाचा के लड़्के का नाम क्या है ?

पाँसिबल नहीं बता पाना...चार पाँच चाचा और सब के दो - दो लड़के भी मान लें तो दस कज़िन्स के नाम याद रखना मुश्किल होता है..इज़ंट इट सर ?

और आपके यहां तो पांच - छह कुत्ते हैं ; उनमें से कितनों के नाम याद हैं तुम्हे.?

आँफ़कोर्स सबके सर

बडे़ होकर किस के जैसे बनना चाहते हो ?

सर माइकल जैक्सन या बैकहम

कोई भारतीय सितारा जमा ही नहीं आदर्श के रूप में ?

सर अपने यहाँ सारा मामला ढीला-ढाला है.

अभी मासिक इनकम क्या है ?

सर कुछ भी नहीं

तो हाथ में ये जो मोबाइल हैण्डसेट है उसके लिये पैसा कहाँ से लाते हो ?

सर इट्स नन आँफ़ माय बिज़नेस...डैड ही सब मैनेज करते हैं..मै तो लाइफ़ को एक फ़न की तरह लेता हूं.

अभी कहां चले ?

सर वेस्टर्न डांस प्रतियोगिता में भाग ले रहा हूं..तो शाम तक लौटूंगा.

मुझे देर हो रही है सर...बाकी़ बात बाद में....


ये है हमारे शहज़ादों का लाइफ़ - स्टाइल. इसमें चौंकने कोई बात है क्या ?

3 comments:

Gyandutt Pandey said...

बड़ा प्रभावशाली इण्टरव्यू है।
होनहार बिरवान के होत चीकने पात!

कंचन सिंह चौहान said...

:)

अमिताभ फौजदार said...

very nice sir . aaj ki nai paudh (generation) media ki santane hain .media inhe bada kar raha hai ......